हम करें राष्ट आराधन । Hum kare rashtra aradhan lyrics । Rss Song । संघ गीत - Man Ki Baat अभिव्यक्ति की आजादी

Breaking

Advertisements

Monday, 15 January 2018

हम करें राष्ट आराधन । Hum kare rashtra aradhan lyrics । Rss Song । संघ गीत


🛑🛑🛑🛑🛑🛑
*हम करें राष्ट आराधन*
कवि : श्री विश्वनाथ शुक्ला

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


हम करें राष्ट आराधन
तन से मन से धन से
तन मन धन जीवनसे
हम करें राष्ट आराधन………………।।…धृ

अन्तर से मुख से कृती से
निश्र्चल हो निर्मल मति से
श्रध्धा से मस्तक नत से
हम करें राष्ट अभिवादन…………………। १

अपने हंसते शैशव से
अपने खिलते यौवन से

प्रौढता पूर्ण जीवन से
हम करें राष्ट का अर्चन……………………।२

अपने अतीत को पढकर
अपना ईतिहास उलटकर
अपना भवितव्य समझकर
हम करें राष्ट का चिंतन…।………………।३

है याद हमें युग युग की जलती अनेक घटनायें
जो मां के सेवा पथ पर आई बनकर विपदायें
हमने अभिषेक किया था जननी का अरिशोणित से
हमने शृंगार किया था माता का अरिमुंडो से

हमने ही ऊसे दिया था सांस्कृतिक उच्च सिंहासन
मां जिस पर बैठी सुख से करती थी जग का शासन
अब काल चक्र की गति से वह टूट गया सिंहासन
अपना तन मन धन देकर हम करें पुन: संस्थापन………………।४

No comments:

Post a Comment

Loading...